Sunday, 9 June 2013

चाँद

बचपन में जब जिद पर अड़े
छूने को चाँद
माँ ने उतार दिया
पूरनमासी का चाँद थाली भर पानी में

चाँद भी न, आता है
चप्पू चलाता खुबसुरत रंगों की पाल डाले
पानियों के रास्त जमीन पर उतरने की
आदत सी है उसे

चाँद को याद रहता है धरती और आकाश के बीच
फैले निर्वात के बारे में
और विज्ञान की कक्षा में पढ़ा ये नियम
निर्वात मैं चलने के लिए
ध्वनि को भी आवश्यकता होती है माध्यम की

जब भूले से कभी प्रेयसिया
मांग कर बैठती हैं चादं की
अपने प्रेयस से किसी कमज़ोर पल मे
वो भी दे जातें हैं ढेर सारा पानी
उनकी आँखों में

आखिर चाँद को पानी के सहारे ही तो उतरना होता ज़मीन पर
                                                                                              -मृदुला शुक्ला

1 comment:

  1. :) :) कितनी प्यारी कविताएं ...

    ReplyDelete